पापा


तुम जहाँ भी हो,
मेरा दिल कहता है,
तुम यहाँ भी हो।  

मुश्किलों की गर्मी में,
मेरे आंसूं सुखाने वाली,
ठंडी हवा भी हो।  

मेरे इतने करीब,
मगर मेरी ही तरह,
शायद तन्हा भी हो।  

ज़िन्दगी भर की सीख, 
और तुम्हीं मेरा हर 
रौशन लम्हा भी हो।  

मेरे उसूल,
मेरा नजरिया,
मेरे दिल की सदा भी हो।  

मेरा हौसला, 
मेरी हर जीत की 
अनकही वजह भी हो।  

मेरे प्यारे पापा हो,
और तुम्हीं उसका सबसे
बड़ा तोफहा भी हो।  


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

इस शहर के शजर

प्यास

वक्त के निशाँ