रविवार, जुलाई 22

मैं


मैं नदी की तरह मुख़्तलिफ़ मुक़ामोँ से गुज़रती जाती हूँ,
मुझे शीशे में उतारने की कोशिश न करो,

कभी बूँद, कभी बादल, कभी दरिया,
मुझे किसी एक रूप में सँवारने की कोशिश न करो...! 






एक टिप्पणी भेजें