गुरुवार, मई 28

ये यादें

इन यादों को 
कहाँ रखूं?
खुशियों में,
या ग़मों में?
ये ऐसी जगह पड़ी हैं,
जहाँ कभी धुप पड़ती है,
तो कभी घनी छाया,
कभी सो जातीं हैं,
रात की गहराई में,
तो कभी मचल के उठ जातीं हैं,
बारिश की बूंदों से,
फिर याद आया के ये यादें 
बोहोत दूर हैं मेरी पहुँच से,
यह यूं ही पड़ी रहेंगी 
इसी जगह,
सोएंगी-जगेंगी इसी तरह,
जब चाहे झकझोरेंगी मुझे,
वक़्त-बेवक़्त इसी तरह।  
एक टिप्पणी भेजें

दिल्ली, सर चढ़ा है तेरा जादू

मुसलसल हलकी-हलकी हुड़क है, तेरी सम्त जाती मेरी हर सड़क है, मेरी कायनात का मरकज़ है तू आरज़ू शब-ओ-रोज़ है तेरी, तू माशूका नहीं,...