शनिवार, जुलाई 23

मोहब्बत

कहते हैं एक बार होती है
किसी एक से होती है
दिल में हो मोहब्बत तो 
हर एक से होती है

मोहब्बत भरी ज़िन्दगी 
गंगा सी होती है 
जहां-जहां बहती है
सबको भिगोती है 

वाद-विवाद की होती है,
रूठने मानने की होती है
मोहब्बत भरे रिश्तों में
जगह इन सब की होती है

मज़बूत रिश्तों को जो बांधे 
वो डोर ज़रा कच्ची होती है
कभी-कभी सौ झूठ में छिपी 
मोहब्बत भी सच्ची होती है 

जब ईंट का जवाब
मोहब्बत होती है 
तब ज़िन्दगी इश्वर के 
बड़े करीब होती है  

मोहब्बत जब 
दिल की मल्लिका होती है,
ज़िन्दगी जीने का 
सुनहरा सलीका होती है 

फोटोस: गूगल आभार 
एक टिप्पणी भेजें

दिल्ली, सर चढ़ा है तेरा जादू

मुसलसल हलकी-हलकी हुड़क है, तेरी सम्त जाती मेरी हर सड़क है, मेरी कायनात का मरकज़ है तू आरज़ू शब-ओ-रोज़ है तेरी, तू माशूका नहीं,...