शनिवार, मई 21

???


जवाबों की भीड़ में उलझे हुए सवाल हैं,
ज़िन्दगी का मतलब क्या है?
खुदा किस मज़हब की जागीर है?
असल बन्दगी का मतलब क्या है?
गर खुदा मोहब्बत है तो आखिर 
मोहब्बत का मतलब क्या है?
एक टिप्पणी भेजें

मेरी कलम

  पहले लिखा करती थी, आजकल नहीं लिखती, पड़ी रहती है थकी-थकी सी, सेहमी सी, यह कलम, आजकल नहीं लिखती।  बहोत बोझ है कन्धों पे इन दिनों,, ...