शनिवार, मई 21

???


जवाबों की भीड़ में उलझे हुए सवाल हैं,
ज़िन्दगी का मतलब क्या है?
खुदा किस मज़हब की जागीर है?
असल बन्दगी का मतलब क्या है?
गर खुदा मोहब्बत है तो आखिर 
मोहब्बत का मतलब क्या है?
एक टिप्पणी भेजें

दिल्ली, सर चढ़ा है तेरा जादू

मुसलसल हलकी-हलकी हुड़क है, तेरी सम्त जाती मेरी हर सड़क है, मेरी कायनात का मरकज़ है तू आरज़ू शब-ओ-रोज़ है तेरी, तू माशूका नहीं,...