सोमवार, अप्रैल 18

अब मज़हबी बातों में दिल नहीं लगता, 
तू दूर हो गया है या करीब आ गया है?
एक टिप्पणी भेजें

दिल्ली, सर चढ़ा है तेरा जादू

मुसलसल हलकी-हलकी हुड़क है, तेरी सम्त जाती मेरी हर सड़क है, मेरी कायनात का मरकज़ है तू आरज़ू शब-ओ-रोज़ है तेरी, तू माशूका नहीं,...