मंगलवार, अगस्त 31

दिल की आवाज़ से ज़्यादा दूर मत जाइएगा

रुकिएगा नहीं, आगे ही चलते जाइएगा, 
जिस राह भी जाएं, दिल की आवाज़ से ज़्यादा दूर मत जाइएगा

                                 दौलत-ओ-शौहरत आसमां के तारों में कहीं होती है,
                                 पर ख़ुशी कहीं दिल के पास छुपी होती है
                                 कितनी भी दूर सफ़र क्यूँ ना करना पड़े, अपने करीब रहिएगा
एक टिप्पणी भेजें

मेरी कलम

  पहले लिखा करती थी, आजकल नहीं लिखती, पड़ी रहती है थकी-थकी सी, सेहमी सी, यह कलम, आजकल नहीं लिखती।  बहोत बोझ है कन्धों पे इन दिनों,, ...