गुरुवार, अगस्त 19

खुदा से डरो, खुदा के नाम पे लड़ने वालों

खुदा से डरो, खुदा के नाम पे लड़ने वालों,
कदम रोक लो, तबाही को बड़ने वालों,
ज़रा दिल-ओ-दिमाग को खोलो,
छोटी-छोटी बातों पे अड़ने वालों
एक टिप्पणी भेजें

मेरी कलम

  पहले लिखा करती थी, आजकल नहीं लिखती, पड़ी रहती है थकी-थकी सी, सेहमी सी, यह कलम, आजकल नहीं लिखती।  बहोत बोझ है कन्धों पे इन दिनों,, ...