शुक्रवार, अगस्त 13

जब तक रहूँ बरकत बन सकूँ, इतना करम कर

दौलत और लम्बी उम्र की हसरत नहीं है मुझे,
जब तक रहूँ बरकत बन सकूँ, इतना करम कर,
इस जहाँ में बहुत से चेहरे आंसुओं से भीगे है,
कुछ से तो मुस्कराहट बाँट सकूँ, इतना करम कर
एक टिप्पणी भेजें

दिल्ली, सर चढ़ा है तेरा जादू

मुसलसल हलकी-हलकी हुड़क है, तेरी सम्त जाती मेरी हर सड़क है, मेरी कायनात का मरकज़ है तू आरज़ू शब-ओ-रोज़ है तेरी, तू माशूका नहीं,...