रविवार, जून 20

Papa, Happy Father's Day!

तुम तो दूर जा ही नहीं सकते, यहीं कहीं हो,
मुझे पता है, यहीं कहीं हो

जब इतनी गलतियाँ करती थी, तो नहीं भूले,
अब क्या भूलोगे,
जब सबने हाथ छोड़ दिया, तुम साथ रहे,
अब क्या छोड़ोगे,
छुपे हो, पर यहीं कहीं हो

शायद मुझमें छिपे हो,
या अजय, अमित या फिर शानू में,
अपनी कही बातों में हो या फिर,
अपने किये कामों में,
पर तुम हो, यहीं कहीं हो

Happy Father's Day.... सुन रहे हो ना...
एक टिप्पणी भेजें

मेरी कलम

  पहले लिखा करती थी, आजकल नहीं लिखती, पड़ी रहती है थकी-थकी सी, सेहमी सी, यह कलम, आजकल नहीं लिखती।  बहोत बोझ है कन्धों पे इन दिनों,, ...